Loading Posts...

1 सितंबर से ट्रैफिक नियम में हो रहा भारी बदलाव, परिवहन मंत्री ने दिया ये बयान

एक सितंबर से ट्रैफिक नियम तोड़ा तो पड़ेगा भारी, देना पड़ेगा इतना जुर्माना

नवाबस्ट्रीट: अगर आप भी लापरवाही से वाहन चलाते हैं और ट्रैफिक नियमों को  तोड़ते है तो हो जाईये सावधान । आने वाले दिनों में सड़कों पर ट्रैफिक के नियम तोड़ने पर अधिक जुर्माना देना होगा. दरअसल, आगामी 1 सितंबर से मोटर वाहन (संशोधन) अधिनियम के 63 उपबंध लागू होने वाले हैं. इनमें यातायात नियमों का उल्लंघन करने पर भारी-भरकम जुर्माना शामिल है. वहीं इस संबंध में सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी का कहना है कि मोटर व्हीकल एक्ट में नई पेनल्टी से नियमों का उल्लंघन करने वालों में डर पैदा होगा।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बताते चले सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी  बताया, ” मोटर वाहन (संशोधन) विधेयक 2019 संसद में पारित हो गया है. हमने अधिनियम के 63 उपबंधों को एक सितंबर से लागू करने का फैसला किया है.”  राजमार्ग मंत्री के मुताबिक शराब पीकर नशे में गाड़ी चलाने, गाड़ी को तेज रफ़्तार से दौड़ने (ओवरस्पीड) और ओवरलोडिंग समेत अन्य मामलों में जुर्माना बढ़ाया गया है. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि सभी उपबंधों को जांच-पड़ताल के लिए विधि मंत्रालय के पास भेजा गया है. उन्होंने उम्मीद जताई है कि ये उपबंध दो से चार दिन में पास होकर आ जाएंगे.

अधिक देने होगा जुर्माना

उदाहरण के लिए बिना हेलमेट के दुपहिया चलाने अथवा बिना सीट बेल्ट के कार चलाने पर अब 100 रुपए के बजाय 1,000 रुपए की पेनाल्टी भरनी पड़ेगी। जबकि बिना लाइसेंस गाड़ी चलाने पर 500 रुपये की बजाय 5,000 रुपए का अर्थदंड लगेगा।

यही नहीं, निर्धारित से अधिक रफ्तार पर गाड़ी चलाने पर 400 रुपए के बजाय वाहन की श्रेणी के अनुसार 1,000 रुपए (एलएमवी) अथवा 2,000 रुपए (मीडियम यात्री वाहन) की रसीद कटेगी। इसी प्रकार शराब पीकर गाड़ी चलाने पर 2,000 रुपए के बजाय 10,000 रुपए तथा बिना परमिट वाहन चलाते पकड़े जाने पर 5,000 रुपए के बजाय 10 हजार रुपये का अर्थदंड भरना पड़ेगा।

जानकारी के लिए बताते चले नया मोटर एक संसद में पारित हो चुका है। गडकरी ने कहा कि मंत्रालय ने जुर्माने से संबंधित सभी उपबंधों को विधि मंत्रालय के पास राय के लिए भेजा है। दो-चार दिन में वहां से स्वीकृति मिलने की उम्मीद है। इसके बाद इन उपबंधों को एक सितंबर से लागू करने की अधिसूचना जारी कर दी जाएगी।उन्होंने जुुर्माना बढ़ने से सड़क दुर्घटनाओं में कमी की उम्मीद जताई। लेकिन माना कि ज्यादा सड़क हादसे घटिया सड़क निर्माण तथा डिजाइन की खामियों के कारण होते हैं।

अब से हर 50 किमी पर एक एंबुलेंस
परिवहन मंत्री नितन गड़करी का दावा है कि नेशनल हाईवे पर हर 50 किलोमीटर पर एक एंबुलेंस तैनात की जाएगी. हर जिले में सांसद की अध्यक्षता में रोड सेफ्टी बोर्ड गठित होगा जो सड़क हादसों के स्पॉट का दौरा करेगी और सुझाव देगी. राष्टीय राजमार्गों पर कुल साढ़े चार सौ एंबुलेंस तैनात किए जाएंगे. यही नही टोल बूथ पर लगने वाले जाम से निजात दिलाने के लिए एक दिसंबर से हर  गाड़ी पर फास्ट टैग लगाना मेंडेटरी कर दिया गया है. यानि एक दिसंबर से टोल पर कैश का लेनदेन पूरी तरह से बंद हो जायेगा.

दुर्घटना के 700 से ज्यादा जगहों की निशानदेही 
देशभर में सात सौ से ज्यादा जगहों की मिशानदेही की गई है जहां सबसे ज्यादा दुर्घटनाएं होती हैं. इनको ठीक करने के लिए 14000 करोड़ खर्च करनें का इरादा है ताकि दुर्घटनाएं रोकी जा सकें. बता दें कि इन जगहों पर ही हुए हादसों में बड़ी संख्या में लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.

0
HeartHeart
0
HahaHaha
0
LoveLove
0
WowWow
0
YayYay
0
SadSad
0
PoopPoop
0
AngryAngry
Voted Thanks!
Loading Posts...