Loading Posts...

क्या सच होगा मायावती के पीएम बनने का सपना ? इन राजनेताओं का मिल रहा सपोर्ट

क्या 23 मई को लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजे आने के बाद बीएसपी सुप्रीमो मायावती देश की नई प्रधानमंत्री बन सकती हैं? वैसे आंकड़ों के लिहाज से तो ये सवाल बेहद बेमानी है, आप भी बोलेंगे कि मात्र 38 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली पार्टी की अध्यक्ष आखिर कैसे पीएम बन सकती है. लेकिन अगर आप सियासी संभावनाएं टटोलेंगे तो ये नामुमकिन भी मुमकिन हो सकता है.

दरअसल मोदी को रोकने के लिए परदे के पीछे जो सियासी बिसात बिछ रही है, उसके अनुसार मायावती के लिए समर्थन भी बढ़ रहा है. बीएसपी ने विधानसभा चुनाव से पहले ही कर्नाटक में एचडी देवगौड़ा की पार्टी जनता दल सेक्युलर के साथ गठबंधन किया था. कर्नाटक का सीएम बनते ही कुमारस्वामी ने कहा हालात बनने पर वह पीएम पद के लिए मायावती का समर्थन करेंगे. इसके बाद हरियाणा के और कद्दावर नेता अभय चौटाला ने भी मायावती को समर्थन की बात कही. आंध्र प्रदेश की सीएम चंद्रबाबू नायडू भी खुलेआम मायावती की वकालत कर ही रहे हैं.

मायावती के पास कम से कम 18 राज्यों में ठीक समर्थन है. उत्तर प्रदेश और कर्नाटक में उनके पास इतना तो वोट है जो किसी भी गठबंधन को साथी फायदा पहुंचा सकता है. हालांकि बीएसपी की पहुंच अभी उत्तर-पूर्व राज्यों में नहीं हुई है. लेकिन मायावती पीएम की कुर्सी तक पहुंचने के लिए समीकरण ही नहीं अंकगणित भी बहुत कुछ तय करेगा.

एनडीए अगर 240 के आसपास सिमट जाए और उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन की 50 सीटें आती हैं तो हो सकता है यूपीए और अन्य दल मिलाकर एक मायावती की अगुवाई में नई सरकार बन सकती है. लेकिन उस परिस्थिति में यूपीए को 100 और अन्य के पास 150 सीटें होनी चाहिए. ऐसा करके कांग्रेस को भी फायदा ही होगा, उसे दलितों वोटरों का दिल जीतने का मौका जो मिल जाएगा.

वैसे भी मध्य प्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस ने सरकार जरूर बनाई है लेकिन वह बीएसपी और अन्य दलों को समर्थन से ही सत्ता में टिकी हुई है. अगर हालात बनने के बाद भी कांग्रेस मायावती का समर्थन नहीं करती है तो बीएसपी सुप्रीमो इन दोनों को सरकारों को अस्थिर करने में ज्यादा देर नहीं लगाएंगी.

दूसरी ओर अगर बीजेपी 150 सीटों के आसपास सिमटती है और एनडीए को कुल 200 सीटें आती हैं तो और यूपी में सपा-बसपा गठबंधन 50 सीटें जीतती है तो इस परस्थिति में बीजेपी भी कांग्रेस को किसी भी कीमत में रोकने के लिए मायावती को पीएम पद का ऑफर दे सकती है. हालांकि ऐसी सरकार कितनी दिन तक चलेगी, ये बात आप पुराने इतिहास पर गौर करके समझ सकते हैं.

0
HeartHeart
0
HahaHaha
0
LoveLove
0
WowWow
0
YayYay
0
SadSad
0
PoopPoop
0
AngryAngry
Voted Thanks!
Loading Posts...